इंडिया के टॉप 10 इंजीनियरिंग कॉलेज

इंडिया के टॉप 10 इंजीनियरिंग कॉलेजTOP TEN IIT COLLAGE IN INDIA

TOP TEN IIT IN INDIA 2021 – हमारे देश में ऐसें कई इंजीनियरिंग कॉलेज है जिनका देश के अलावा विश्व के बेहतरीन कॉलेज कि सूची मे नाम आता है। इस लेख मे हम जानेगे कि TOP TEN IIT COLLAGE IN INDIA के बारे मे। अभी हाल ही में शिक्षा विभाग ( N I R F ) द्वारा एक सूचि जारी की गई है जिसमें देश के टॉप-10 इंजीनियरिंग कॉलेज के बारे में बताया गया है। जहा पर उनके हाल हि वर्षो के प्रदर्शन के आधार पर इस सूची मी शामिल किया गया है। इस सूची मे जगह बनाना इतना आसान काम नही है। जहा पुरे देश से इन्हे चुना जाता है। बताया जा रहा है कि इन टॉप – १० शिक्षण संस्थानों को तकनीकी क्षेत्र के बेस्ट 3000 संस्थानों में से चुना गया है। इन टॉप-10 संस्थानों का चयन नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ रैंकिंग फ्रेमवर्क (NIRF) द्वारा किया गया है। इस टॉप-१० की लिस्ट में टॉप- १० पर आईआईटीज कॉलेज का ही कब्जा है। तो आइये जानते है देश के टॉप १० इंजीनिरिंग कॉलेजों के बारे में

१ इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, मद्रास

Top ten iit in india कि सूची मे मद्रास को पहले नंबर पर रखा गया है। आईआईटी मद्रास का निर्माण १९५९  में किया गया था। यह सिर्फ भारत ही नही बल्कि विश्व के उच्चतम शिक्षण संस्थानों में गिना जाता है। IIT-MADRAS एक आवासीय संस्थान है जिसमें लगभग ५५० फैकल्टी,८००० छात्र और १२०० प्रशासनिक और सहायक कर्मचारी हैं और लगभग २५० हेक्टेयर की खूबसूरत भूमि में स्थित एक स्व-निहित परिसर है। यह कैंपस चेन्नई शहर में स्थित है, जिसे पहले मद्रास के नाम से जाना जाता था।

२ इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, दिल्ली

Top ten iit in india कि सूची मी दिल्ली को चौथे नंबर पर रखा गया है। IIT-DELHI का निर्माण १९६१ में कि या गया था। तब से लेकर अब तक IIT-DELHI देश के सर्वश्रेष्ठ संस्थानों में शामिल होता रहा है। १९६१ में दिल्ली में कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग के रूप में स्थापित, संस्थान को बाद में ‘इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (संशोधन) अधिनियम, १९६३’ के तहत राष्ट्रीय महत्व के संस्थान के रूप में घोषित किया गया और इसका नाम बदलकर ‘भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) दिल्ली’ कर दिया गया। तब इसे अपनी शैक्षणिक नीति तय करने, अपनी परीक्षाएं आयोजित करने और अपनी खुद की डिग्री प्रदान करने की शक्तियों के साथ एक डीम्ड ( Deemed ) विश्वविद्यालय का दर्जा दिया गया था। अपनी स्थापना के बाद से, इंजीनियरिंग, शारीरिक विज्ञान, प्रबंधन और मानविकी और सामाजिक विज्ञान सहित 48,000 से अधिक छात्रों ने विभिन्न विषयों में IIT-DELHI से स्नातक किया है। इनमें से, लगभग ५००० छात्रों से उपर ने पीएचडी की डिग्री प्राप्त की है।

३ इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, बॉम्बे

Top ten iit in india कि सूची मे बॉम्बे को तिसरे नंबर पर रखा गया है। IIT – BOMBAY का निर्माण १९५८ में किया गया था । आईआई बॉम्बे से कई शख्सियत निकली है जिन्होंने हर फिल्ड में देश का नाम रोशन किया है। IIT बॉम्बे विदेशी सहायता के साथ स्थापित होने वाला पहला IIT था। इस IIT – BOMBAY को यूनेस्को से धन तत्कालीन सोवियत संघ के चलन रूबल्स के रूप में मिला था। १९६१ में संसद ने आईआईटी को ‘राष्ट्रीय महत्वपूर्ण संस्थान’ के रूप में घोषित किया गया । तब से, IIT – BOMBAY दुनिया के शीर्ष तकनीकी विश्वविद्यालयों में से एक के रूप में उभरने के लिए तय्यार हो गया।

४ इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, कानपुर

Top ten iit in india की सूची मे कानपुर को चौथे नंबर पर शामिल किया गया है। IIT- KANPUR की स्थापना १९५९ में की गई थी। इसे अमेरिका ओर भारत के सहयोग के तत्वधान के तहत अमेरिका के ९ विश्वविद्यालयों के सहयोग से हुई। IIT- KANPUR मुख्य रूप से विज्ञान एवं अभियान्त्रिकी में शोध तथा स्नातक शिक्षा पर केंद्रित एक प्रमुख भारतीय तकनीकी संस्थान बनकर उभरा है। सन् १९६३ में संस्थान का स्थानांतरण वर्तमान स्थान पर हुआ।

५ इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, खड़गपुर

Top ten iit in india कि लिस्ट मे खरगपूर को पाचवे नंबर पर रखा गया है। यह सबसे पुराना आईआईटी संस्थान है जिसका निर्माण भारत सरकार द्वारा १९५१ में किया गया था। भारत सरकार ने इसे आधिकारिक तौर पर राष्ट्रीय महत्त्वपूर्ण संस्थान माना है,और इसकी गणना भारत के सर्वोत्तम इंजीनियरिंग संस्थानों में होती है। १९४७ में भारत कि आझाधी के बाद   IIT- KHARAGPUR की स्थापना उच्च कोटि के वैज्ञानिकों और इंजीनियरों को प्रशिक्षित करने के लिए हुई थी। भारत के सभी IIT संस्थानो मे से इसका क्षेत्रफळ सबसे जादा है । साथ हि यहा के विभाग ओर छात्रों कि संख्या भी सबसे अधिक है।

६ इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, रूड़की

Top ten iit in india कि सूची मे रूड़की को ६ नंबर पर रखा गया है। IIT- ROORKEE का नाम सबसे पहले कॉलेज ऑफ सिविल इंजीनियरिंग एट रूड़की ( १८४७ – १८५३ ) था। इसके बाद इसका नाम थॉमसन कॉलेज ऑफ सिविल इंजीनिरिंग ( १८५३ – १९४८ ) फिर यूनिवर्सिटी ऑफ रूड़की ( १९४८ – २००१ ) हुआ। ओर २००१ में इसका नाम इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, रूड़की रखा गया जो कि इसका वर्तमान स्वरूप है। ये उत्तराखंड राज्य के रुरकी मे है। यह संस्थान विश्व के सर्वोत्तम प्रोद्यौगिकी संस्थानो मे अपना स्थान रखता है। इसने प्रोद्यौगिकी विकास के सभी क्षेत्रों में अपना योगदान दिया है। 

७ इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, गोवाहाटी

Top ten iit in india कि सूची मे गोवाहाटी को इस लिस्ट में सातवें नंबर पर रखा गया है। टॉप टेन में शामिल होने वाला यह सांतवा आईआईटी संस्थान है। IIT – GUWAHATI की स्थापना १९९४ में की गई थी। ये पुर्वोतर का एकमात्र कॉलेज है। भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान गुवाहाटी का शैक्षणिक कार्यक्रम १९९५ में शुरू हुआ। वर्तमान में संस्थान में सभी प्रमुख इंजीनियरिंग, विज्ञान को शामिल करने वाले ग्यारह विभाग और पांच अंतर-अनुशासनात्मक शैक्षणिक केंद्र हैं। और मानविय , बीटेक, बीडीएस, एमए, एमडीएस, एमटेक, एमएससी और पीएचडी कार्यक्रमों की पेशकश करते हैं। कुछ ही समय के भीतर, GUWAHATI इंस्टिट्यूटने उन्नत अनुसंधान करने के लिए विश्व स्तर के बुनियादी ढाँचे का निर्माण किया है और अत्याधुनिक वैज्ञानिक और इंजीनियरिंग उपकरणों से लैस किया गया है। भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान गुवाहाटी का परिसर एक विशाल २८५  एकड मे फैला हुवा है। ब्रम्ह्पुत्र नदी के उत्तरी किनारे पर शहर के दिल से लगकर, एक तरफ ब्रह्मपुत्र, और दूसरी तरफ पहाड़ियों और विशाल खुली जगहों के साथ, परिसर सीखने के लिए एक आदर्श सेटिंग प्रदान करता है।

इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, हैदराबाद

Top ten iit in india कि सूची मे हैदराबाद को आठवे स्थान पर रखा गया है। टॉप टेन में शामिल होने वाला यह आठवा आईआईटी संस्थान है। इसकी स्थापना २००८  में की गई थी।IIT – HYDERABAD सरकार द्वारा शुरू की गई IIT की दूसरी पीढ़ी में से एक है। IIT हैदराबाद की नींव अनुसंधान और नवाचार पर आधारित है। आज IIT – HYDERABADB.Tech, M.Tech , M.Sc M.Phil , M.Des और Ph.D प्रदान करता है। इंजीनियरिंग, विज्ञान, कला और डिजाइन की सभी शाखाओं में कार्यक्रम प्रदान करता है। जीवंत अनुसंधान संस्कृति पेटेंट और प्रकाशनों की संख्या से स्पष्ट है जो IIT – HYDERABAD मे है। IIT में छात्रों को ढेर सारे विकल्प दिए जाते हैं, जिन्हें वे फैकल्टी सलाहकार की मदद से पूरी मेहनत से चुनते हैं। सेमीस्टर तक चलने वाले पाठ्यक्रम IIT हैदराबाद में लगभग एक पूर्वगामी कहानी है।

१४  से १५ शैक्षणिक वर्ष से सभी बी.टेक कार्यक्रमों में ऐसे पाठ्यक्रमों की पेशकश शुरू हुई जो छोटे क्रेडिट के हैं, जिन्हे फ्रैक्टल एकेडमिक्स कहा जाता है। बहुत सावधानी से छात्रों के उत्साह को बनाए रखने और १ सेमेस्टर से ८ वे सेमेस्टर तक छात्रों की स्थिति के साथ तालमेल रखने के लिए डिज़ाइन किया गया है। पिछले कुछ वर्षों में आईआईटी हैदराबाद दुनिया भर के प्रमुख शैक्षणिक संस्थानों के साथ टाय – अप के साथ निर्माण में अत्यधिक सफल रहा है। IIT हैदराबाद जापानी विश्वविद्यालयों और उद्योगों के साथ एक बहुत ही विशेष संबंध रखता है, जो अकादमिक और अनुसंधान सहयोगों से परे है। वास्तव में, IIT – HYDERABAD परिसर में कुछ प्रतिष्ठित इमारतें जापानी वास्तुकला सुंदर उदाहरण है । आईआईटीटी एक अद्वितीय समग्र शैक्षिक पारिस्थितिकी तंत्र बना रहा है जो इंटरैक्टिव सीखने, एक उच्च, लचीली शैक्षणिक संरचना, अत्याधुनिक अनुसंधान, मजबूत उद्योग सहयोग और उद्यमशीलता प्रदान करता है। यह एक ऐसा वातावरण प्रदान करता रहा है। जिसमें छात्र अपने सपनों को वास्तविकताओं में अनुवाद करने से नहीं डरते।

इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी तीरची  

Top ten iit in india को इस लिस्ट में नववे स्थान पर रखा गया है। यह तमिलनाडु की सबसे बड़ी इंजीनियरिंग यूनिवर्सिटी है। इस यूनिवर्सिटी का निर्माण १९६४ में तीरुचापल्ली मे किया गया था। भारतीय सूचना प्रौद्योगिकी संस्थान तिरुचिरापल्ली (आईआईआईटीटी) , जिसे IIT – TRICHY के रूप में भी जाना जाता है , राष्ट्रीय महत्व का संस्थान है और एमएचआरडी के गैर-लाभकारी सार्वजनिक-निजी भागीदारी (पीपीपी) मॉडल के तहत प्रस्तावित २१ आईआईआईटी में से एक है ।ITT एक शैक्षणिक और अनुसंधान संस्थान पूरी तरह से भारत सरकार , तमिलनाडु सरकार और उद्योग भागीदारों ५० :३५ :१५ के अनुपात में है। उद्योग भागीदारों मे शामिल टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेस ( टी सी एस )  , इन्फोसिस, रामको सिस्टम । इन जैसे निजी भागीदारो कि मदत से ये इसका परिचालन किया जाता है ।

१० इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी इंदोर

Top ten iit in india कि सूची मे इंदोर स्थित इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजीको दसवे स्थान पर रखा गया है। इस यूनिवर्सिटी की स्थापना 2009 में की गई थी। विज्ञान और प्रौद्योगिकी में एक विश्व गुरु बनने और एक नई क्रांति की शुरुआत करने के लिए भारत के दृष्टिकोण को ध्यान में रखते हुए, एक अभूतपूर्व आर्थिक विकास के परिणामस्वरूप, भारत सरकार ने तकनीकी जनशक्ति की आवश्यकता को आश्वस्त किया। और आठ नए आईआईटी स्थापित करने का निर्णय लिया। उनमें से छह ने शैक्षणिक वर्ष २००८ – २००९ से काम करना शुरू कर दिया था। ये हैदराबाद, गांधीनगर, राजस्थान, रोपड़, पटना और भुवनेश्वर में स्थापित किए गए थे। INDORE और MANDI ने जुलाई २००९ से कार्य करना शुरू किया।

मध्य प्रदेश में स्थित भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान इंदौर, जिसे IIT – INDORE या IITTI के रूप में जाना जाता है, २००९ में भारत सरकार द्वारा स्थापित राष्ट्रीय महत्व का संस्थान है। यह मानव संसाधन विकास मंत्रालय द्वारा शुरू किए गए आठ नए आईआईटी में से एक है। इस संस्था ने २००९ – १० में आईआईटी बॉम्बे के मेंटरशिप के तहत देवी अहिल्याबाई विश्वविद्यालय के इंजीनियरिंग और प्रौद्योगिकी संस्थान में एक अस्थायी परिसर में काम करना शुरू किया। केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री श्री अर्जुन सिंह ने १७ फरवरी, २००१ को सिमरोल में लगभग ५०१.४२ -एकड़ (२.१  किमी वर्ग ) के क्षेत्र में फैले स्थायी परिसर की नींव रखी। जो शहर से २५ किलोमीटर दूर खंडवा रोड पर स्थित है। फरवरी २०१६ से, IIT – INDORE ने अपने स्थायी परिसर से कार्य करना शुरू कर दिया था । सभी प्रशासनिक कार्यालय, सामग्री प्रबंधन अनुभाग, वित्त और खाता अनुभाग, बेसिक साइंसेज के स्कूल, मानविय और सामाजिक विज्ञान के स्कूल, इंजीनियरिंग के स्कूल, बेसिक साइंस लैब्स और इंजीनियरिंग लैब्स सभी इस परिसर में स्थापित हैं। सेंट्रल लाइब्रेरी भी इसी परिसर में स्थित है। शैक्षणिक कार्यालय संस्थान के छात्रों के सभी शैक्षणिक मामलों के लिए जिम्मेदार है। इस कार्यालय में एक डीन ऑफ एकेडमिक अफेयर्स, दो एसोसिएट डीन (अकादमिक), एक प्रशासनिक अधिकारी, एक प्रबंधक और तीन उप प्रबंधक के अलावा कुछ कर्मचारी होते हैं।