प्राचीन भारत का इतिहास और विस्तार..

प्राचीन भारत का इतिहास – Prachin bharat ka itihas
 
इतिहास कि बात होती है तो भारत बहुत प्राचीन है और विविध सभ्यताओं का जन्म यहाँ हुआ था। यह देश विविधताओं से भरा है जहां हमारे लोग विभिन्न समुदायों और विविध धर्मों की संस्कृति को समझते हैं और मानते हैं। लेकिन आज हम जिस देश को देख रहे हैं, वह अतीत में ऐसा नहीं था। भारत का बहुत बड़ा देश था, जो ईरान से लेकर इंडोनेशिया तक फैला हुआ था। समय के साथ, अखंड भारत अलग-अलग क्षेत्रों में विभाजित हो गया, और विभिन्न स्थानों पर विभिन्न विचारों का विकास हुआ। इतिहास बताता है कि भारत में ऐसे देश थे जिनके साथ भारत एक साथ जुड़ा हुआ था।
 
1. ईरान- Iran
 
प्राचीन भारत का इतिहास prachin bharat ka itihas कि बात करें तो ईरान पहला देश है, जिसने 2000 ईसा पूर्व में ईरान में आर्य समाज का उदय देखा था। जब आर्य बलूचिस्तान के रास्ते ईरान पहुँचे। आर्य समाज ईरान में फला-फूला, लेकिन अरबों ने ईरान पर आक्रमण किया और आर्यों से अपनी शक्ति छीन ली। आर्यों के कारण इस देश का नाम ईरान पड़ा।
 
2. कंबोडिया – Cambodia
 
कंबोडिया जहां एक कांडियम नामक ब्राह्मण ने पहली शताब्दी में कंबोडिया में एक हिंदू राज्य की स्थापना की थी। जिसके नाम से हि उस देश का नाम कंबोडिया पडा था । कंबोडिया मी विश्व का सबसे बडा विष्णू का मंदिर है।
 
3. वियतनाम – Vietnam
 
वियतनाम का पुराना नाम चम्पा था ,यह दूसरी शताब्दी में स्थापित किया गया था। दूसरी शताब्दी में स्थापित, चम्पा भारतीय संस्कृति का मुख्य केंद्र बन गया ,जहा स्थानीय चंपा कहे जाने वाले लोगों ने भारतीय संस्कृती को आपणाया ओर वहा से हिंदू संस्कृती का प्रचार हुआ ।  1850 में वहाँ का हिंदू राज्य समाप्त हो गया।
 
4.मलेशिया – Malaysia
 
पहली शताब्दी में महान भारतीय लोग वहाँ पहुँचे और लोगों को उनकी महान संस्कृति के बारे में बताया और उनकी संस्कृति का विस्तार किया। बाद में शैव, वैश्य और बौद्ध धर्म का प्रसार हुआ।
 
5.इंडोनेशिया –  Indonesia
 
इंडोनेशिया कभी भारत का एक समृद्ध राज्य था। इंडोनेशिया में बाली दीप को छोड़कर, हिंदू आज भी मिनक हैं। वहाँ के मुस्लिम लोग आज भी वहाँ की हिंदू संस्कृति से जुड़े हुए हैं।
 
6.फिलिपिंस – Philippines
 
फिलिपिंस मे भारतीय संस्कृति का प्रभाव था। 15 वीं शताब्दी में, मुसलमानों ने आक्रमण किया और धीरे-धीरे भारतीय संस्कृति का प्रभाव वहां से कम हुआ।
 
7.अफगानिस्तान – Afghanistan
 
अफगानिस्तान 350 ईस्वी तक भारत का अभिन्न अंग था। सातवीं शताब्दी में मुसलमानों के आने के बाद, हिंदू प्रभाव कम हो गया और भारत के सांस्कृतिक प्रभाव में गिरावट जारी रही। धीरे-धीरे, वह राजनीतिक और सांस्कृतिक रूप से भारत से अलग हो गए हैं।
 
 
 
8.नेपाल – Nepal
 
नेपाल दुनिया का एकमात्र हिंदू राष्ट्र है, जिसकी स्थापना 1769 में एक गोरखा हिंदू राजा ने की थी।
 
9. भूटान – Bhutan
 
भूटान का प्राचीन नाम भद्र था। भारत और भूटान ने संधि पर 8 अगस्त 1949 को हस्ताक्षर किए थे। इसके साथ ही स्वतंत्र पर्वतीय क्षेत्र -समृद्ध भूटान देश की पहचान बन गया।
 
10. तिब्बत – Tibet
 
तिब्बत, हमारे शास्त्रों में इसका तीन बार उल्लेख किया गया है। चौथी शताब्दी में यहाँ बौद्ध धर्म का प्रसार हुआ। यह प्राचीन भारत के प्रभाव क्षेत्र के अंतर्गत था। भारत की दूर की कमी के कारण, चीन ने 1957 में इसे चीन में मिला दिया।
 
11.श्रीलंका – Sri Lanka
 
श्री का पुराना नाम ताम्रपर्णी था। यह भारत का अभिन्न अंग था। पुर्तगालियों ने 1505, 1606 में डच और 1795 में अंग्रेजों ने शासन किया।1935 में अंग्रेजों ने इसे भारत से अलग कर दिया।
 
12.म्यानमार – Myanmar (Burma)
 
अगला देश म्यानमार है, 1852 तक एक हिंदू राजा था, 1852 के बाद, ब्रिटिश शासन आया। यह 1937 में भारत से अलग हो गया।
 
13.पाकिस्तान – Pakistan
 
15 अगस्त 1947 से पहले, पाकिस्तान भारत का अभिन्न अंग था। हालांकि, विभाजन के बाद शेष सभी हिंदू मंदिरों को नष्ट कर दिया गया था और जीवित कुच मंदिरों की स्थिति भी बहुत खराब है।
 
14. बांग्लादेश – Bangladesh
 
प्राचीन भारत कि बात करें तो आखिर में 15 अगस्त 1947 से पहले, बांग्लादेश भी भारत का अभिन्न अंग था। 1947 के बाद बांग्लादेशी भी पूर्वी पाकिस्तान के रूप में अलग हो गया था । लेकिन इसके बाद भी वह 1971 में पाकिस्तान से अलग हो गया।
 
इस तरह हमने देखा कि प्राचीन भारत मे किस तरह एक अखंड भारत का विभाजन होता है। लेकिन भारत में नालंदा और तक्षशिला जैसे स्कूल थे और दुनिया भर के लोग सीखने के लिए यहां आते थे। इससे पता चलता है कि भारत की संस्कृति बहुत विकसित थी। आज भी हम अपनी संस्कृति के प्रतीक सजग है।