हिरोशिमा और नागासाकी परमाणु बमबारी | मैनहट्टन परियोजना

हिरोशिमा ओर नागासाकी पर गिराये गये परमाणु बम का प्रभाव:

6 अगस्त, 1945 को द्वितीय विश्व युद्ध (1939-45) के दौरान, एक अमेरिकी बी -29 बमवर्षक ने जापानी शहर हिरोशिमा पर दुनिया का पहला परमाणु बम गिराया था। विस्फोट में लगभग 80,000 लोग मारे गए थे, और बाद में विकिरण के कारण हजारो लोग मारे गये। तीन दिन बाद, दूसरे बी – 29 ने नागासाकी पर एक और परमाणु बम गिराया, जिससे अनुमानित 40,000 लोग मारे गए। इससे प्रभावित होकर जपान के सम्राट हिरोहितो ने 15 अगस्त को एक रेडियो संबोधन में जपान कि बिना शर्त आत्मसमर्पण की घोषणा की, “एक नए और सबसे क्रूर बम” की विनाशकारी शक्ति का हवाला देते हुए।

मैनहट्टन परियोजना:

इ .स 1939 में युद्ध के प्रकोप से पहले, अमेरिकी वैज्ञानिकों के एक समूह- उनमें से कई यूरोप में फासीवादी शासन के कारण अमेरिका मे शरणार्थी बने हुए थे। जो नाझी जर्मनी में किए जा रहे परमाणु हथियार अनुसधान से चिंतित थे। 1940 में, अमेरिकी सरकार ने अपने स्वयं के परमाणु हथियार विकास कार्यक्रम को वित्तपोषित करना शुरू किया। जो द्वितीय विश्व युद्ध में अमेरिका के प्रवेश के बाद वैज्ञानिक अनुसंधान और विकास के कार्यालय और युद्ध विभाग की संयुक्त जिम्मेदारी के तहत आया था। यू.एस. आर्मी कोअर ऑफ इंजीनियर्स को शीर्ष-गुप्त कार्यक्रम के लिए आवश्यक विशाल सुविधाओं के निर्माण का काम सौंपा गया था, जिसका नाम “मैनहट्टन प्रोजेक्ट” था।

अगले कई वर्षों में, कार्यक्रम के वैज्ञानिकों ने परमाणु विखंडन -यूरेनियम -235 और प्लूटोनियम -239 के लिए प्रमुख सामग्रियों के उत्पादन पर काम किया। उन्होंने उन्हें लॉस एलामोस, न्यू मैक्सिको भेजा। जहां जे रॉबर्ट ओपेनहाइमर के नेतृत्व में एक टीम ने इन सामग्रियों को एक काम करने योग्य परमाणु बम में बदलने का काम किया। 16 जुलाई, 1945 की सुबह मैनहट्टन परियोजना ने न्यू मैक्सिको के आलमोगोर्डो के ट्रिनिटी परीक्षण स्थल पर एक परमाणु प्लूटोनियम बम का पहला सफल सफल परीक्षण किया।

जापानियों ने सरेंडर करणे से इन्कार किया:

ट्रिनिटी परीक्षण के समय तक मित्र देशों की शक्तियों ने पहले ही यूरोप में जर्मनी को हरा दिया था। हालाँकि, जापान ने स्पष्ट संकेतों (1944 की शुरुआत में) के बावजूद कड़वे अंत से लड़ने की कसम खाई थी। लेकीन उनके पास जीतने की बहुत कम संभावना थी। वास्तव में, अप्रैल 1945 के बीच (जब राष्ट्रपति हैरी टरमण ने पदभार संभाला) और जुलाई के मध्य में जापानी सेना ने मित्र देशों की हताहतों की संख्या को बढ़ा दिया था। जो प्रशांत क्षेत्र में तीन साल के युद्ध में लगभग जितने हुये उससे आधे लोग घायल हुये थे। जिससे साबित हुआ कि जापान और भी घातक हो गया था। जुलाई के अंत में जापान की सैन्यवादी सरकार ने पॉट्सडम घोषणा में मित्र देशो द्वारा दिए गए आत्मसमर्पण प्रस्ताव को खारिज कर दिया था । जिससे इनकार करने पर मित्र देशो ने जापानियों को “तुरंत और पूरी तरह से विनाश” की धमकी दी।

जनरल डगलस मैकआर्थर और अन्य शीर्ष सैन्य कमांडरों ने पहले कि तरह जापान पर भारी पारंपरिक बमबारी को जारी रखने का निर्देश दिया, जिसका नाम “ऑपरेशन डाउनफॉल” था। उन्होंने यु एस अध्यक्ष टर्मन को सलाह दी कि इस तरह के आक्रमण से अमेरिकी हताहतों की संख्या 1 मिलियन तक हो जाएगी। इस तरह की उच्च आकस्मिक मृत्यू दर से बचने के लिए टरमण ने युद्ध के सचिव हेनरी स्टिमसन, जनरल ड्वाइट आइजनहॉवर और मैनहट्टन परियोजना के कई वैज्ञानिकों कि नैतिक जिम्मेदारी के साथ फैसला लेणे को कहा। युद्ध में जीत कि उम्मीद लाने के लिए परमाणु बम का उपयोग करना यु एस कि मजबुरी बन गया था। परमाणु बम के समर्थकों मे जेम्स बायरन्स जो कि टरमण के राज्य सचिव थे। उनका मानना ​​था कि इसकी विनाशकारी शक्ति न केवल युद्ध को समाप्त कर देगी, बल्कि यू.एस. को युद्ध मे जीत की स्थिति में लाकर रख देगी।

‘लिटिल बॉय’ और फैट मैन’ को गिरा दिया:

टोकियो से लगभग 500 मील की दूरी पर स्थित लगभग 350,000 लोगों के एक विनिर्माण केंद्र हिरोशिमा को पहले लक्ष्य के रूप में चुना गया था। टिनियन के प्रशांत द्वीप पर अमेरिकी आधार पर पहुंचने के बाद, 9,000 पाउंड से अधिक यूरेनियम – 235 बम को एक संशोधित बी – 29 बमवर्षक एनोला गे (इसके पायलट, कर्नल पॉल टिब्बेट्स) में लोड किया गया था। विमान ने सुबह 8:15 बजे “लिटिल बॉय” नामक बॉम को गिराया। इसके साथ इसने हिरोशिमा से 2,000 फीट ऊपर तक 12-15000 टन टीएनटी के बराबर विस्फोट कर शहर के पांच वर्ग मील को नष्ट कर दिया।

हिरोशिमा की तबाही के बाद भी जापानी आत्मसमर्पण करणे के पक्ष मे नही थे। 9 अगस्त को मेजर चार्ल्स स्वीनी ने टिनियन से एक और बी – 29 बमवर्षक, बोक्सस्कर से उड़ान भरी। प्राथमिक लक्ष्य कोकुरा शहर शहर रखा गया था, लेकीन घने बदल के कारण मेजर चार्ल्स स्वीनी को एक ओर माध्यमिक लक्ष्य नागासाकी दिया गया। जहां उस सुबह प्लूटोनियम बम “फैट मैन” को 11:02 बजे गिराया गया। बम का वजन लगभग 10,000 पाउंड था और इसे 22- किलोटन विस्फोट करने के लिए बनाया गया था। लेकीन नागासाकी की भोगोलिक स्थिती के कारण बम के प्रभाव को कम कर दिया और विनाश को 2.6 वर्ग मील तक सीमित कर दिया।

बम विस्फोट के बाद हिरोशिमा ओर नागासकी:

15 अगस्त, 1945 को दोपहर में, सम्राट हिरोहितो ने रेडियो प्रसारण में अपने देश के आत्मसमर्पण की घोषणा की। खबर तेज़ी से फैल गई, और “जापान में विजय” से समारोह संयुक्त राज्य अमेरिका और अन्य संबद्ध देशों में फैल गया। अमेरिकी युद्धपोत मिसौरी में टोक्यो खाड़ी में लंगर डालते हुए 2 सितंबर १९४५ को औपचारिक आत्मसमर्पण समझौते पर हस्ताक्षर किए गए थे।

तबाही और अराजकता के कारण दो शहरों के बुनियादी ढांचे में से अधिकांश का सफाया हो गया था – हिरोशिमा और नागासाकी की बमबारी से सटीक मौत अज्ञात बनी हुई है। हालांकि यह अनुमान लगाया गया कि हिरोशिमा में लगभग 70,000 से 135,000 लोग मारे गए थे और नागासाकी में 60,000 से 80,000 लोगों की मृत्यु हुई थी। हिरोशिमा ओर नागासकी ( Hiroshima and Nagasaki) के दोनों विस्फोटों के तीव्र जोखिम से और विकिरण के दीर्घकालिक दुष्प्रभावों से आज भी जपान लढ रहा है।

दोस्तो, आपको हिरोशिमा और नागासाकी परमाणु बमबारी लेख कैसा लगा? आप कमेंट करके बता सकते हो।

आप यह भी पढ सकते हो…

१) अमेरिकन राज्यक्रांती.

२) होम रूल मूवमेंट इन इंडिया.

Leave a Comment