मानस नेशनल पार्क | मानस अभयारण्य कहाँ स्थित है | Manas National Park

मानस नेशनल पार्क – Manas National Park

मानस नेशनल पार्क भारत के पूर्वोत्तर राज्य असम में स्थित एक महत्वपूर्ण एवं प्रसिद्ध राष्ट्रीय उद्यान है । मानस नेशनल पार्क एक टाइगर रिजर्व हाथी रिजर्व तथा यूनेस्को की विश्व धरोहर सूची में सम्मिलित स्थान के साथ-साथ असम का एक बायोस्फीयर रिजर्व भी है यह राष्ट्रीय उद्यान अपनी प्राकृतिक सुंदरता तथा विभिन्न प्रकार के जीव जंतु और वनस्पति की सुंदरता के लिए प्रसिद्ध है

मानस नेशनल पार्क कहां स्थित है – Where is Manas National Park located

मानस नेशनल पार्क असम के बोंगाईगांव तथा बारपेटा नामक जिलों में स्थित है। यह राष्ट्रीय उद्यान पूर्वी हिमालय की तलहटी में स्थित है। इस राष्ट्रीय उद्यान का विस्तार पड़ोसी देश भूटान तक है, भूटान में इसे रॉयल मानस नेशनल पार्क के नाम से जाना जाता है। मानस नदी के क्षेत्र में स्थित होने के कारण इस राष्ट्रीय उद्यान का नाम मानस नेशनल पार्क पड़ा । मानस ब्रह्मपुत्र की सबसे बड़ी सहायक नदी है ।

मानस नेशनल पार्क का इतिहास – History of Manas National Park

मानस नेशनल पार्क को वर्ष 1905 में रिजर्व फॉरेस्ट प्रस्तावित किया गया। 1907 में इसे फॉरेस्ट रिजर्व घोषित किया गया । वर्ष 1928 में इस क्षेत्र को खेल अभयारण्य के रूप में विकसित किया गया । तथा वर्ष 1950 में इस संपूर्ण क्षेत्र को वन्य जीव अभ्यारण के रूप दिया गया । भारत सरकार के टाइगर रिजर्व प्रोजेक्ट के तहत वर्ष 1973 में इसे टाइगर रिजर्व घोषित किया गया, तथा 1985 में इसे यूनेस्को की विश्व धरोहर सूची में शामिल किया गया तथा वर्ष 1989 में यूनेस्को द्वारा ही बायोस्फीयर रिजर्व के रूप में विकसित किया गया तथा वर्ष 1990 में इस अभयारण्य को भारत सरकार द्वारा राष्ट्रीय उद्यान का दर्जा दिया गया। टाइगर रिजर्व का कुल क्षेत्रफल लगभग 2837 वर्ग किलोमीटर है, तथा इस वन्यजीव अभयारण्य का क्षेत्रफल लगभग 500 वर्ग किलोमीटर है ।

मानस नेशनल पार्क में वन्य जीव एवम वनस्पति – Wildlife and Vegetation in Manas National Park

मानस नेशनल पार्क अपने अंदर अनेकों प्रकार के जीव जंतु तथा वनस्पति को समाहित किए हुए हैं इस राष्ट्रीय उद्यान में अधिकांशत वन्यजीवों की वह प्रजातियां पाई जाती हैं जो रेड डाटा बुक में सम्मिलित हैं अर्थात जो संकटग्रस्त प्रजातियां हैं

वन्य जीव –

वन्य जीवों की श्रेणी में मानस नेशनल पार्क काफी समृद्ध है । मानस नेशनल पार्क में पाए जाने वाले वन्य जीव जिनमे मुख्य रूप से हिरण, हाथी,बंगाल टाइगर, सांभर, चीतल, केप्ड लंगूर, इंडियन फॉक्स, बार्किक हिरण , ब्लैक पैंथर,इंडियन गैंडा , बंगाल फ्लोरिकन, प्योगी हॉग जैसे विलुप्त होने की कगार पर पहुंच चुके जानवरों की अनेकों प्रजातियां यहां देखने को मिलती है ।मानस नेशनल पार्क में स्तनधारियों की 55 सरीसर्पों की 50 तथा पक्षियों की 380 से भी अधिक प्रजातियां पाई जाती है ।

वनस्पति –

यह संपूर्ण क्षेत्र वनस्पति का एक समृद्ध क्षेत्र है राष्ट्रीय उद्यान में मुख्य मानसूनी वनस्पति पाई जाती है। मानस नेशनल पार्क क्षेत्र से नदियां भी निकलती हैं जिसके कारण यह क्षेत्र हमेशा हरा भरा तथा सुंदरता से लदा हुआ रहता है। अनेकों प्रकार की घास तथा विभिन्न प्रकार की पेड़ों की संख्या इस क्षेत्र के सुंदरता को चार चांद लगाती है । पर्वतीय क्षेत्र होने के कारण यहां पर पाए जाने वाले पेड़ पौधे पर्वतीय क्षेत्र के ही होते हैं । इस क्षेत्र में लगभग 543 प्रकार के पौधों की प्रजातियां दर्ज की गई है जिनमें 139 मोनोकोटाइल्डन , 374 डायकॉटाइलडन प्रकार के पौधों की प्रजातियां हैं ग्रेविया, लिया, पेमा, अरुण्डो डोनेक्स आदि ग्रास की प्रमुख प्रजातियां है

मानस नेशनल पार्क सफारी – Manas National Park Safari

मानस नेशनल पार्क में आपको सफारी का आनंद भी मिलेगा । भ्रमण हेतु पार्क में जीप और कैंटर के माध्यम से आप सफारी का आनंद ले सकते है

नेशनल पार्क में सफारी 2 शिफ्ट में चलती है जिनमें फुल डे और हाफ डे सम्मिलित है हाफ डे सफारी 3 से 5 घंटे और फुल डे 7 घंटे की होती है जीप सफारी एवं कैंटर सफारी का किराया अलग अलग होता है भारत के नागरिकों के लिए इसकी शुरुआत 1000 रुपए से और विदेशी पर्यटकों के लिए अलग मूल्य निर्धारित है ।

सफारी के माध्यम से आप नेशनल पार्क के सभी मुख्य पर्यटक स्थलों को देख सकते है और पाए जाने वाले सभी जीव जंतु और पक्षियों को भी देख सकते है । सफारी के लिए आपको पहले से ही ऑनलाइन बुकिंग करनी होगी ।

वाटर राफ्टिंग इन मानस नेशनल पार्क – Water Rafting in Manas National Park

जैसा की आपको मालूम है की पार्क के अंदर होकर नदियां गुजर रही है तो स्वाभाविक है की आप उसमे राफ्टिंग का आनंद भी भरपूर के सकते है । दूध जैसा सफेद पानी होने के कारण इसको व्हाइट वाटर राफ्टिंग नाम दिया गया है । इस राफ्टिंग के लिए आपको अपनी जेब थोड़ी ढीली करनी होगी किंतु इसके दौरान आपको पूरा पैसा वसूल राफ्टिंग का मजा आयेगा । इसलिए मानस जाने पर इस राफ्टिंग का आनंद लेना न भूलें ।

मानस नेशनल पार्क कैसे पहुंचे – How to reach Manas National Park

मानस नेशनल पार्क पहुंचने के लिए रेल मार्ग , सड़क मार्ग और वायु मार्ग तीनों का प्रयोग किया जा सकता है ।

वायु मार्ग:

गुवाहाटी हवाईअड्डा जो की मानस नेशनल पार्क से 180 km की दूरी पर स्थित है । ये नेशनल पार्क का निकटतम हवाईअड्डा है । यहां के लिए देश के प्रत्येक हिस्से से आसानी से उड़ान मिल जाती है ।

रेल मार्ग:

रेल मार्ग से भी ये नेशनल पार्क गुवाहाटी जंक्शन के माध्यम से जुड़ा हुआ है और बारपेटा रेलवे स्टेशन भी निकटतम रेलवे स्टेशन है जो की केवल 22 km की दूरी पर स्थित है

सड़क मार्ग:

सड़क मार्ग के माध्यम से आप आसानी से यहां पहुंच सकते है राष्ट्रीय राजमार्ग इस पार्क के पास से होकर ही गुजरते है जो की गुबाहट से जुड़े हुए है ।

मानस नेशनल पार्क जाने का सबसे अच्छा समय – Best time to visit Manas National Park

मानस नेशनल पार्क के भ्रमण के लिए सबसे उचित समय नवंबर माह से लेकर फरवरी या मार्च तक का समय है। क्योंकि इस समय नेशनल पार्क के लगभग सभी क्षेत्र पर्यटकों के लिए खुले रहते हैं तथा नेशनल पार्क में जंगली जानवरों, पशु, पक्षियों तथा अन्य सभी पर्यटक स्थलों को बड़ी आसानी से देखा जा सकता है। मानसून के समय में नेशनल पार्क को पर्यटकों के लिए बंद कर दिया जाता है क्योंकि उस समय पार्क के अंदर पानी की उपलब्धता अधिक मात्रा में हो जाती है ।

मानस नेशनल पार्क में बेस्ट होटल और रेस्टोरेंट – Best Hotel & Restaurant in Manas National Park

मानस नेशनल पार्क घूमने आए पर्यटकों के लिए यहां पर अनेकों उच्च श्रेणी के होटल तथा रेस्टोरेंट उपलब्ध हैं। जिनमें आपको खाने तथा रहने की सुविधा प्राप्त होगी। हम आपको बताते हैं मानस नेशनल पार्क क्षेत्र में स्थित कुछ होटल तथा रेस्टोरेंट के बारे में जहां आपको बेहतर सुविधा के साथ-साथ बेहतर खाना भी उपलब्ध होगा ।

० MUSA JUNGLE RETREAT

० THE SIKHIRI COTTAGE

० THE WILD TIGER RESORT

० THE BANSBARI LODGE

० BIRINA TOURIST LODGE

आशा करते हैं कि यह जानकारी आपको अच्छी लगी होगी तथा आपके लिए सहायक सिद्ध होगी और साथ ही अपने विचार भी हमसे साझा करें ।

आप ये भी पढ सकते हो…

१) पापिकोंडा नेशनल पार्क.

Leave a Comment